प्रधान मंत्री नागरिक सहायता और आपातकालीन स्थिति निधि
प्रधान मंत्री नागरिक सहायता और आपातकालीन स्थिति निधि

PM CARES vs PMNRF


7

कोविद-19 नामक महामारी के चलते आज पूरी दुनिया मे अफरा तफरी का माहौल है। इस महामारी ने अधिकांश देशों की व्यवस्था व अर्थव्यवस्था को झकझोर कर रख दिया है। स्थिति और भी भयावह हो जाती है जब बात भारत जैसे विकासशील व घनी आबादी वाले देश की हो रही हो। हमारे देश में इस महामारी के मरीजों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ती जा रही है। इसके पीछे का कारण सिर्फ इतना नहीं कि हमारे पास संसाधनों की कमी है बल्कि एक मुख्य कारण यह भी है कि हम ऐसी किसी भी परिस्थिति के लिए तैयार नहीं थे, न तो सामाजिक तौर पर और न ही आर्थिक तौर पर।

इस परिस्थिति से निपटने के लिए 28 मार्च 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा ‘प्रधान मंत्री नागरिक सहायता और आपातकालीन स्थिति निधि’ (PM CARES)का गठन किया गया जिससे किइससे प्रभावित लोगों को राहत प्रदान की जा सके।

लेकिन अस्तित्व में आने के साथ ही PM CARES फंड विवादों मेंघिर गया क्योंकि ऐसी ही आपातकालीन स्थितियों से निपटने के लिए PMNRF नामक कोष पहले से ही मौजूद है जिसकी मौजूदा धनराशि3800.44 करोड़ रुपये है।यह दोनों फण्ड एक ही प्रकार के हैं जिसकी जनता के प्रति कोई जवाबदेही नहीं। अब लोगों के मन में यह सवाल है कि PMNRF के होते PM CARES का गठन करने की जरूरत आखिर क्यों पड़ गई।आखिर प्रधानमंत्री जी ने लोगों से PMNRF में ही सहायता राशि भेजने की अपीलक्यों नहींकी?PMO द्वारा लोगों के इन प्रश्नों का कोई भी स्पष्ट उत्तर नहीं दिया गया।

प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष

प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष (PMNRF)की स्थापना 1948 मेंतत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू द्वारा की गई अपील के अनुसरण में पाकिस्तान से विस्थापित लोगों की सहायताकरने के लिए की गई थी। यह पूरी तरह से सार्वजनिक योगदान के साथ स्थापित किया गया था और इसे कोई बजटीय समर्थन नहीं मिला।इसके बाद भी इसे अन्यप्राकृतिक आपदाओं से निपटने तथा चिकित्सा व अन्यसेवाओं में वृद्धि के लिये जारी रखा गया।

प्रधान मंत्री नागरिक सहायता और आपातकालीन स्थिति निधि

प्रधानमंत्री नागरिकसहायता और आपातकालीनस्थिति निधि(PM CARES) की स्थापना कोविद-19 से निपटने के लिये की गई है। प्रधानमंत्री इस ट्रस्ट के अध्यक्षऔर गृह मंत्री, रक्षा मंत्री तथा वित्त मंत्री इसके सदस्य हैं।

PM CARES और PMNRFमें समानतायें

  • दोनों ही फण्ड को आयकर अधिनियम के तहत ट्रस्ट का दर्जा प्राप्त है।
  • दोनों ही ट्रस्ट के अध्यक्ष प्रधानमंत्री हैं।
  • दोनों ही फंडों की ऑडिटिंग कोईथर्ड पार्टी करती है लेकिन PM CARES की ऑडिटिंग के लिए उसकेसदस्य किसी थर्ड पार्टीको चुनेंगे।
  • दोनों ही ट्रस्ट कोई भी जानकारी पार्लियामेंट से साझा नहीं करते हैं।
  • दोनों ही ट्रस्ट द्वारा पैसा देने वालों या फिर सहायता पाने वालों के नाम किसी को नही बताए जाते।
  • दोनों ही ट्रस्ट पूरी तरह से सार्वजनिक योगदान पर निर्भर हैं इन्हें किसी भी तरह की बजटीय सहायता प्राप्त नहीं होती।

PM CARES और PMNRF में अंतर

  • PMNRF के अन्य सदस्य उप प्रधानमंत्री,वित्त मंत्री, टाटा ट्रस्ट का एक सदस्य, FICCY का एक सदस्य तथा कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष होते हैं।जबकि PM CARES के अन्य सदस्य गृह मंत्री, रक्षा मंत्री और वित्त मंत्री हैं, इसके साथ ही प्रधानमंत्री किन्हीं अन्यतीन लोगों को जो कि अपने क्षेत्र में प्रसिद्ध होंगेनियुक्त कर सकते है।
  • PMCARES में न्यूनतम सहायता राशि 10 रुपये तक कि दी जा सकती है जो कि PMNRF में 100 रुपये है।
  • दोनों ही ट्रस्ट में से किसी में भी आप सशर्त सहायता नहीं दे सकते, मतलब पैसा देने वाला कोई शर्त नहीं रख सकता कि उसका पैसा कहां लगाया जायेगालेकिन इस समयPM CARES में आने वाले हर पैसे को कोविद-19 से लड़ने के काम में ही लगाया जायेगा तो देने वाले जानते हैं कि उनका पैसा कहां लगेगा।
  • PM CARES मे कुछ हद तक विदेशी लोग भी पैसा भेज सकते हैं।
  • PM CARES में कम्पनियों द्वारा दिया गया पैसाकॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (Corporate SocialResponsibilityया “CSR“) माना जाएगा जबकि PMNRF में ऐसा कोई प्रावधान नहींहै।

इन सभी अंतर के बावजूद दोनों ट्रस्ट में जो समानतायें हैं वो बेहद चिंता जनक हैं और वह न सिर्फPM CARES के उपयोग पर अपितु इसको बनाने के पीछे उद्देश्य पर भी सवाल खड़ा करते हैं। प्रधानमंत्री जी की बात मानकर बड़ी संख्या में लोग सामने आकर अपनी क्षमता के अनुसार सहयोग कर रहे हैं।PM CARES में एक बड़ी धनराशि होने के बावजूद अभी भी संसाधनों की बहुत कमी है, लोगों की टेस्टिंग की रफ्तार बहुत धीमी है ऐसे मे लोगों के मन में यह सवाल आता है कि उनके द्वारा मदद के लिए दिया गया पैसा पता नहीं कहाँ लगाया जा रहा है।PM CARES का गठन होने के एक सप्ताह के भीतर ही इसमें 6500 करोड़ से भी अधिक धनराशि जमाहुई जो कि PMNRF के गत दो वर्षों की जमा राशि का तीन गुना है।इस बात से यह अनुमान लगाया जा सकता है कि इस नए ट्रस्ट में न सिर्फ लोगों का भरोसा अधिक है बल्कि इसमें इनका सहयोग भी कहीं अधिक है इसलिए इसमें सरकार की जवाबदेही भी अत्यधिक होनी चाहिए। यदि लोग विपदा के समय अपनी सरकार पर भरोसा कर उसके एक अपील पर अपनी मेहनत से कमाया पैसा दे रहे हैं तो उस पैसे के बारे में सवाल करने का और सरकार के द्वारा उनका उपयोग कहाँ किया जा रहा है यह जानने का उनका पूरा अधिकार है। देश के अन्य नागरिकों को भी यह जानने का पूरा अधिकार है कि उनके द्वारा चुनी गई सरकार को फंडिंग कहाँ-कहाँ से की जाती है।PM CARES के गठन के पीछे सरकार की मंशा भले ही गलत न हो लेकिन इसमें पारदर्शिता बनाये रखने का पूरा प्रयास करना चाहिए। इसमें पारदर्शिता लाने के लिए मेरी तरफ से निम्नलिखितसुझाव हैं-

  • PM CARES फंडकी ऑडिटिंग CAG द्वारा कराई जानी चाहिएजिससे जनता द्वारा दिये गए हर पैसे का हिसाब पार्लियामेंट के सामने रहे।
  • PM CARES फंड को RTI के अंतर्गतलाया जाना चाहिए जिससे कि जनता अपने दिये गए पैसों की जानकारी ले सके।
  • फण्ड में किसने कितना पैसा दिया और वह पैसा किसके फायदे के लिए खर्च किया गया इसकी जानकारी जनता को मुहैया कराई जाए।
  • नेता प्रतिपक्षको भी इसका सदस्य बनाया जाना चाहिए जिससे कि इसकी पारदर्शिता बनी रहे।
  • किसी साइट पर प्रत्येक दिन में आया और खर्च किया गयापैसा अपलोड किया जाए ताकि हर व्यक्ति ऑनलाइन घर बैठे इसे देख सके।

Author Details:

Shashank Patel
LL.B. (Hons), IV Sem.
Faculty of Law, University of Lucknow


Like it? Share with your friends!

7
Deepika

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Choose A Format
Personality quiz
Series of questions that intends to reveal something about the personality
Trivia quiz
Series of questions with right and wrong answers that intends to check knowledge
Poll
Voting to make decisions or determine opinions
Story
Formatted Text with Embeds and Visuals
List
The Classic Internet Listicles
Countdown
The Classic Internet Countdowns
Open List
Submit your own item and vote up for the best submission
Ranked List
Upvote or downvote to decide the best list item
Meme
Upload your own images to make custom memes
Video
Youtube, Vimeo or Vine Embeds
Audio
Soundcloud or Mixcloud Embeds
Image
Photo or GIF
Gif
GIF format